केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन, देर शाम पटना लाया जा रहा पार्थिव शरीर

09/10/2020 2:05 PM Total Views: 2214

रायबरेली से ब्यूरो चीफ,अर्जुन मिश्रा की रिपोर्ट

बिहार में चुनावी सरगर्मी के बीच लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के संस्‍थापक व केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) में मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) नहीं रहे। उनके दिल व किडनी ने ठीक से काम करना बंद कर दिया था। इस वजह से कुछ दिनों से उन्हें आइसीयू में एक्मो (एक्सट्रोकॉरपोरियल मेमब्रेंस ऑक्सीजनेशन) मशीन के सपोर्ट पर रखा गया था। गुरुवार की शाम 6:05 बजे उन्होंने दिल्ली के फोर्टिस अस्‍पताल में अंतिम सांस ली। वे 74 वर्ष के थे।

शुक्रवार की सुबह उनका शव नई दिल्‍ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (AIIMS) में केमिकल ट्रीटमेंट के बाद दिल्‍ली निवास पर ले जाया गया है। वहां श्रद्धांजलि देने वाले आ रहे हैं। श्रद्धांजलि देने वालों में राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सहित केंद्रीय कैबिनेट के मंत्रीगण शामिल रहे। अपराह्न काल में रामविलास पासवान का पार्थिव शरीर पटना लाया जाएगा। पटना के दीघा घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार शनिवार को होगा।

हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें

Advertisement Image

Advertisement Image

राम विलास पासवान के निधन के बाद देश में शोक का माहौल है। उनके निधन के बाद शोक में राष्‍ट्रपति भवन पर राष्‍ट्रध्‍वज झुका दिया गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस की महासचिव प्रियंका वाड्रा, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित पक्ष-विपक्ष के कई वरिष्ठ नेताओं व केंद्रीय मंत्रियों ने ट्वीट कर उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। राष्‍ट्रपति व प्रधानमंत्री सहित केंद्रीय कैबिनेट के मंत्रीगण उन्‍हें श्रद्धांजलि देने उनके दिल्‍ली आवास पर पहुंचे।

Advertisement Image

Advertisement Image

कुछ दिनों से दिल्‍ली के अस्‍पताल में करा रहे थे इलाज

राम विलास पासवान की तबीयत बीते कुछ समय से खराब चल रही थी। करीब एक सप्‍ताह पहले अचानक तबीयत खराब हो जाने के कारण तीन अक्‍टूबर को उनके दिल का ऑपरेशन करना पड़ा था। इसके बाद गुरुवार की रात दिल्‍ली के फाेर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट में अंतिम सांस ली। वहां कार्डियोलोजिस्‍ट डॉ. अशोक सेठ के नेतृत्व में उनका इलाज चल रहा था। उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती चली गयी।

ये ख़बर आपने पढ़ी देश के तेजी से बढ़ते सबसे लोकप्रिय हिंदी न्यूज़ प्लेटफ़ॉर्म पर ,आज तेजी से बदलते परिवेश में जहां हर क्षेत्र का डिजिटलीकरण हो रहा है, ऐसे में  हमारा यह नएवस पोर्टल सटीक समाचार और तथ्यात्मक रिपोर्ट्स लेकर आधुनिक तकनीक से लैस अपने डिजिटल प्लेटफार्म पर प्रस्तुत है। अपने निडर, निष्पक्ष, सत्य और सटीक लेखनी के साथ मैं प्रधान संपादक कुमार दीपक और मेरे सहयोगी अब 24x7 आप तक पूरे देश विदेश की खबरों को पहुंचाने के लिए कटिबद्ध हैं।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से क्या आप संतुष्ट हैं? अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे।

[mytesta_show_stories] Live Share Market